Last Updated on Oct 25, 2021 by Aradhana Gotur

भारत हमेशा से त्योहारों की भूमि के रूप में जाना जाता है। भारतीय संस्कृति अपनी विविधता के लिए प्रसिद्ध है जो दूर और पास के लोगों को त्योहार मनाने के लिए यहाँ लेकर आती है। खुशियाँ साझा करना हम सभी  को ‘अनेकता में एकता’ के लिए तैयार करता है।

त्योहार हमेशा से एक नई शुरुआत का माध्यम रहे हैं।

वैसे तो हर दिन एक नई शुरुआत होता है। लेकिन कभी-कभी हमें सांसारिक चीजों से अलग, जुनून और शैली में चीजों को दूर करने के लिए केवल एक प्रज्ज्वलन (इग्निशन) या उत्प्रेरक (कैटेलिस्ट) की जरूरत होती है। दिवाली नज़दीक है, हम उम्मीद करते हैं कि यह प्रकाश का त्योहार वास्तव में हमारे जीवन में उजाला लेकर आएगा। 

इस दार्शनिक संदर्भ के साथ, मैं अपनी सीख और अनुभव शेयर करना चाहता हूं कि कैसे आप इस शुभ दिन यानी दिवाली पर इन्वेस्ट कर सकते हैं। ‘दिवाली पर ही इन्वेस्टमेंट’ वाली मानसिकता के साथ इन्वेस्ट न करें। एक लंबी समय सीमा के लिये इन्वेस्ट करें। केवल अगली दिवाली तक के लिए इन्वेस्ट ना करें बल्कि आने वाली कई और दिवाली के लिए इन्वेस्ट करें मतलब अपना लक्ष्य तैयार करें। मार्केट का आकलन बहुत ही मुश्किल है और बिना समझे रिस्क नहीं लेना चाहिए।

अंत में, पारंपरिक (ट्रेडिशनल) दिवाली स्टॉक पिक्स के विपरीत, मैंने कुछ बेहतरीन स्मॉलकेस मैनेजरों के विचारों को आशाजनक विषयों पर प्राप्त करने की कोशिश की, उनका मानना ​​​​है कि ये स्टॉक्स, किसी के इन्वेस्टमेंट को आगे बढ़ाने के लिए चमत्कार कर सकते हैं।

तो चलिए शॉर्टलिस्टेड थीम को निम्नलिखित श्रेणियों में विभाजित करते हैं:

1. वृद्धावस्था (ओल्ड ऐज) थीम जो एक लंबे बीअर साईकल (भालू चक्र) के बाद देख रहे हैं।

आने वाले वर्षों में फार्मा सेक्टर एक बड़ा वेल्थ क्रिएटर (अर्थात आपकी सम्पत्ति को बढ़ाने वाला) हो सकता है क्योंकि हमें इस सेक्टर के आकलन से अच्ची संभावनाएं दिखाई दे रही हैं। हाल के तिमाही नतीजे (क्वार्टरली परफॉरमेंस) और प्रबंधन टिप्पणियां (मैनेजमेंट कमेंटरीज़) भी उत्साहजनक ट्रेंड को दर्शाती हैं।

फार्मा ट्रैकर स्मॉलकेस चेक करें 

2. रियल एस्टेट और बिल्डिंग मैटेरियल (निर्माण सामग्री)

रियल एस्टेट, जो एक लंबे समय से कम उत्पादक रहा है अब एक ऐसा सेक्टर है जो इस दिवाली से अगली दिवाली तक अच्छा मुनाफा दे सकता है। रियल्टी सेक्टर में सुधार के मजबूत संकेत दिखने लगे हैं। स्थापित कंपनियां अच्छी मात्रा में वृद्धि की रिपोर्ट कर रही हैं और मुद्रास्फीति (इन्फ्लेशन) की आशंकाओं के साथ, हम फिर से रियल एस्टेट में इन्वेस्ट करने के लिए भारी भीड़ देख सकते हैं।

गिरती मांग और कमियों के कारण यह सबसे अधिक पस्त सेक्टर था और विशेष रूप से कॉर्पोरेट प्रशासन के ऊंचे स्टैण्डर्ड के लिए नहीं जाना जाता था। बढ़ती आबादी, शहरीकरण और सिंगल परिवारों में वृद्धि वाले देश में, हाउसिंग डिमांड में वृद्धि होना तय था, हालांकि, नरम कीमतों के कारण, खरीदारों को और अधिक गिरावट की उम्मीद थी और इस तरह यह एक गुप्त डिमांड बनी रही।

डिमोनीटाइजेशन (नोटबंदी), जीएसटी (GST) की शुरूआत और रेरा (RERA) के साथ पिछले 3-4 सालों में इस सेक्टर का सबसे अशांत (टरबुलेंट) समय देखा गया। एक झटके और  समेकन (कंसोलिडेशन) के बाद, कोविड -19 एक अस्थायी अभिशाप साबित हुआ, आखिरकार इसने घरों की बिक्री को बढ़ावा देने के लिए उत्प्रेरक (कैटेलिस्ट) के रूप में काम किया है क्योंकि वर्क फ्रॉम होम (WFH) एक स्वीकार्य मानदंड बन गया है और यह अभी भी है। सरकार ने भी रियायतें देने की पैरवी की है। होम लोन की दरें ऐतिहासिक निचले स्तर पर हैं। जैसे ही कीमतों में बढ़ोतरी होनी शुरू हुई, फेंस-सीटर भी कूद गए, जिससे इनपुट कॉस्ट में भी बढ़ोतरी  होने लगी ।

हम इस सेक्टर में अभी और अधिक समेकन (कंसोलिडेशन) देख सकते हैं और अगले कुछ सालों के लिए बहुत से सर्वश्रेष्ठ लोगों के पास मुफ्त रन होगा क्योंकि इस सेक्टर ने अपना फोकस ‘बिल्डिंग होम’ से ‘मैनुफैक्चरिंग होम’ में शिफ्ट कर दिया है। हालांकि, सावधानी की बात है, जैसा कि हमने पिछले कुछ हफ्तों में पहले ही तेजी देखी है, इसलिये सोच समझ कर कदम उठाना होगा।

रियल्टी ट्रैकर स्मॉलकेस चेक करें

नए युग के विषयों को हाल की महामारी और अब पलटाव में बहुत जरूरी प्रोत्साहन मिला है।

3. प्ले ऑन डिजिटलाइजेशन

जो कंपनियां देश में बढ़ते डिजिटलाइजेशन से लाभान्वित हो सकती हैं जैसे टेक और प्लेटफॉर्म (Tech and platform) से संबंधित बिज़नेस में  पैसा कमाने की अपार संभावनाएं हैं। ये स्मॉलकेस हैं, जो इससे विशेष रूप से लाभान्वित हो सकते हैं:

अल्फा एक्यूरेट स्मॉलकेस द्वाराAAA नेक्स्ट जनरेशन और पाइपर सेरिका स्मॉलकेस द्वारा इंडिया इंटरनेट की ओपोर्तुनिटीज़

4. निर्यात

निर्यात पर दांव लगाएं। चाइना+1 थीम केवल समय के साथ बड़ा होता जाएगा। पूरी दुनिया एक बैकअप की तलाश में है और हमारी अपनी मातृभूमि इंडिया से बेहतर कौन है। इस स्मॉलकेस की जाँच करें:

चाइना प्लस वन स्ट्रैटेजी – इंडिया राइजिंग! स्मॉलकेस।

5. फिर से खुलती थीम

दीपावली के बाद, थीम फिर से खुलती है और लोगों से उम्मीद की जाती है कि वे ज्यादा खर्च करें जिससे उपभोक्ता विवेकाधीन सेक्टर, उपभोग, यात्रा और टूरिज्म, होटल, एयरलाइंस, लगेज और जूते आदि क्षेत्रों को लाभ हो। यह स्मॉलकेस उसी थीम पर बनाया गया है:

हैप्पी आवर्स: चीयर्स टू गुड टाइम्स स्मॉलकेस। (अच्छे दिन: खुशियों का पिटारा)

अंत में, एक रणनीति के रूप में परिसंपत्ति आवंटन (एसेट एलोकेशन) से बढ़कर कुछ नहीं है। आप यह सुनिश्चित करें कि जिस धन को आप इन्वेस्ट करते हैं आपको उसकी अगले 3-5 सालों तक कोई जरूरत नहीं है। इसलिए जब आप इन रोमांचक और आशाजनक थीम में इन्वेस्ट करते हैं, तो हमेशा अपनी लिक्विड पूंजी और भावनात्मक पूंजी को अलग रखें।

Rakesh Rathod
guest
1 Comment
Inline Feedbacks
View all comments
1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x